Vande Gujarat News
Breaking News
Breaking NewsNationalWorld News

CIA का सनसनीखेज खुलासा, चीन पर परमाणु हमला करने वाला था रूस!

रूस और चीन एक दूसरे के खून के प्यासे हो गए हैं. खबर मिली है कि गुस्से में रूस करने वाला था परमाणु हमला. रूस ने मिसाइलें दागने की तैयारी भी कर ली थी. ये सनसनीखेज खुलासा अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए ने किया है.

The New Nuclear Dawn: Threat of Atomic Weapons Grows as U.S., Russia and  China Renew Arms Race - DER SPIEGEL

इंसानी इतिहास में अभी तक सिर्फ एक ही बार किसी देश ने किसी देश पर परमाणु हमला किया है, और वो है अमेरिका. जिसने जापान के ऊपर ये कहर ढहाया. उसके बाद से परमाणु हमले की धमकियां तो सामने आईं मगर कभी परमाणु हमला नहीं हुआ. मगर अब अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने खुलासा किया है कि रूस ने चीन पर परमाणु हमले को तकरीबन अंजाम दे ही दिया था. रूसी मिसाइलों का रूख चीन की तरफ था. बस 15 मिनट में परमाणु बम चीन पर गिरने ही वाला था. हालांकि ऐन वक्त पर तबाही का ये प्लान टल गया. मगर जो चीन और रूस इतने गहरे दोस्त हैं उनके बीच ऐसी नौबत आई क्यों?

रूस और चीन एक दूसरे के खून के प्यासे हो गए हैं. खबर मिली है कि गुस्से में रूस करने परमाणु हमला वाला था. रूस ने मिसाइलें दागने की तैयारी भी कर ली थी. ये सनसनीखेज खुलासा अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए ने किया है. एजेंसी की सूचना को मानें तो रूस इतना गुस्से में था कि वह चीन पर परमाणु बम गिराने वाला था.

ये खबर आपको हैरान कर सकती है. क्योंकि मौजूदा दौर में रूस और चीन को अमेरिका के खिलाफ सबसे मजबूत साथी माना जाता है. अमेरिका को हमेशा इन इस दोस्ती से खतरा महसूस होता है. क्योंकि दो शक्तिशाली मुल्कों का एक साथ होना. अमेरिका की बादशाहत पर बहुत बड़ा खतरा है. अमेरिका के पास इतना मजबूत कोई साथी नहीं, जो उसके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल सके. लिहाज़ा वो इस दोस्ती में दरार डालने में कोई कोर कसर छोड़ना नहीं चाहता है. लिहाज़ा वक्त-वक्त पर अमेरिका कोई ना कोई शगूफा छोड़ता रहता है. मगर इस बार अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने जो शगूफा छोड़ा है. वो दुनिया के लिए खतरे की घंटी बजाने वाला है.

Russia vs. China: The Coming of Cold War 2.0 | Common Dreams Views

अमेरिकी खुफिया एजेंसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक रूस ने तो चीन को सबक सिखाने के लिए परमाणु मिसाइलें दागने की तैयारी कर ली थी. मगर ये मौजूदा वक्त की बात नहीं बल्कि शीतयुद्ध के दौर की बात है. मगर आज की तारीख में ऐसी रिपोर्टों को जारी करने के पीछे अमेरिका का एक ही मकसद है. इस दोस्ती को तोड़ना. अमेरिका की इस साजिश को समझने की कोशिश करेंगे मगर उससे पहले जानते हैं कि शीतयुद्ध के दौरान आखिर ऐसा क्या हो गया था कि रूस को चीन पर परमाणु मिसाइलें दागने की तैयारी करने की नौबत आ गई थी.

शीत युद्ध के वक्त एक समय ऐसा भी आया था जब पूरी दुनिया पर परमाणु हमले का खतरा मंडराने लगा था. उस वक्त रूस के राष्ट्रपति निकिता ख्रुश्चेव ने फिदेल कास्त्रो के अनुरोध पर अपनी परमाणु मिसाइलों को क्यूबा में तैनात कर दिया था. उस वक्त तक कम्युनिस्ट शासित देशों में सबसे बड़ा और शक्तिशाली होने के कारण रूस का समर्थन चीन भी करता था. लेकिन चीन के पहले परमाणु परीक्षण के बाद से हालात बदलने लगे. चीन ने इस परीक्षण को प्रोजक्ट 596 का नाम दिया था. इस सफल परीक्षण के बाद चीन दुनिया का पांचवा ऐसा देश बन गया था जिसके पास परमाणु हथियार की क्षमता थी.

इस दौरान चीन और रूस के बीच सीमा संघर्ष चरम पर था. कई बार चीन-रूस की सीमा पर दोनों देशों के सैनिकों के बीच सैन्य झड़पें भी हुईं. जिसके बाद संभावित युद्ध की आशंका से चीन और रूस ने सीमा पर सैनिकों और हथियारों की तैनाती को बढ़ा दिया. दोनों देशों के बीच तनाव इतना बढ़ गया था कि महीनों तक दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ अघोषित युद्ध तक लड़ लिया. रूस को उम्मीद थी कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी में जारी कलह उसकी मददगार बनेगी. मगर रूस को इस विवाद का कोई फायदा नहीं मिला. और उधर चीन सीमा पर तैनात रूसी सैनिकों पर हमला बोल दिया. इससे भड़के रूस ने स्ट्रैटजिक मिसाइल फोर्स को हाई अलर्ट पर रख दिया.

उस वक्त रूस की परमाणु मिसाइलें 1500 किलोमीटर की दूरी पर 15 मिनट से भी कम समय में हमला करने को तैयार थीं. हालांकि, रूस ने दूसरा विकल्प अपनाते हुए केजीबी के एलीट बॉर्ड गार्ड्स की टुकड़ी से चीनी सैनिकों पर हमला किया. जिसमें चीनी पक्ष के सैकड़ों जवान मारे गए. रूस की जवाबी कार्रवाई से चीन को इतना डर गया कि वो मास्को से बार-बार बातचीत से मसला हल करने के लिए गिड़गिड़ाने लगा. तब कहीं जाकर रूस ने चीन का पीछा छोड़ा.

संबंधित पोस्ट

અમદાવાદની સીએન વિદ્યાલયના ધોરણ 5 અને 7ના 3 વિદ્યાર્થીએ દુનિયાના કોઈપણ ખૂણેથી પલ્સ રેટ, હાર્ટબીટ, હાર્ટરેટ માપી શકતું ઈ-સ્ટેથોસ્કોપ બનાવ્યું

Vande Gujarat News

‘ડાંગ એક્સપ્રેસ’ સરિતા ગાયકવાડની DySP તરીકે નિમણૂક કરાયા બાદ CM રૂપાણીએ શું કર્યુ ટ્વિટ કરીને અભિનંદન પાઠવ્યા

Vande Gujarat News

ભરૂચ શહેરના ચકલા વિસ્તારમા સંત શિરોમણી જલારામ બાપાની જન્મજયંતિની ઉજવણી કરાઇ

Vande Gujarat News

જબુગામ દ્વારકાધીશ હવેલી ખાતે ધર્મભક્તિની સાથે રાષ્ટ્રભક્તિનો માહોલ હિંડોળા દર્શનમાં જોવા મળ્યો

Vande Gujarat News

તુર્કીમાં 7નો પ્રચંડ ભૂકંપ : 18 નાં મોત, 400 થી વધુ ઘાયલ – એજિયન સમુદ્રના પેટાળમાં 16 કિલોમીટર નીચે ભૂકંપનું એપી સેન્ટર

Vande Gujarat News

ભરૂચના શુકલતીર્થના નદી કાંઠે ઇંટના ભઠ્ઠાઓ નજીક ટ્રેકટર નીચે કામદાર કચડાઇ જતાં મોત

Vande Gujarat News