Vande Gujarat News
Breaking News
Ankleshwar Bharuch Breaking News Congress Gujarat Health India National Political Political

गुजरात: पैतृक गांव में सुपुर्द-ए-खाक हुए अहमद पटेल, राहुल गांधी रहे मौजूद

कांग्रेस नेता अहमद पटेल को भरूच जिले के उनके पैतृक गांव में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया. इस दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई दिग्गज नेता मौजूद रहे. अंतिम संस्कार के दौरान कोरोना नियमों का पालन किया गया.

कांग्रेस के दिग्गज और पार्टी के संकटमोचक अहमद पटेल के शव को कोविड-19 दिशानिर्देशों के साथ गुजरात के भरूच जिले में उनके पैतृक गांव में सुपुर्दे-खाक कर दिया गया. उनकी अंत्येष्टि में राहुल गांधी समेत पार्टी के कई शीर्ष राष्ट्रीय नेता मौजूद रहे. पटेल का अंतिम संस्कार पैतृक गांव पिरमान में सुन्नी वोहरा मुस्लिम जमात कब्रिस्तान में किया गया.

अहमद पटेल का बुधवार सुबह कोविड संक्रमण के बाद हुईं जटिलताओं के चलते निधन हो गया था. वे गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती थे, जहां से उनका शव वडोदरा ले जाया गया और वहां से अंकलेश्वर के अस्पताल ले जाया गया जहां शव को गुरुवार सुबह तक रखा गया. उनके आवास पर 10 मिनट के लिए शव ले जाने के बाद कब्रिस्तान का रुख किया गया.

मृतक के लिए की जाने वाली अंतिम नमाज के बाद अहमद पटेल के शव को उनके परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों और दोस्तों ने दफनाया, जिनमें से अधिकांश लोग पीपीई पहने हुए थे. अपने प्रिय नेता के अंतिम दर्शन करने हजारों लोग कब्रिस्तान में आने की कोशिश कर रहे थे, जिन्हें कोविड-19 दिशानिर्देशों के तहत पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करके नियंत्रित किया.

अंतिम संस्कार में राष्ट्रीय कांग्रेस के कई प्रमुख नेता मौजूद रहे, जिनमें राहुल गांधी भी शामिल थे, जो गुरुवार की सुबह सूरत हवाई अड्डे पर उतरे थे. उनके अलावा पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, गुजरात प्रभारी राजीव सातव, वरिष्ठ नेता मधुसूदन मिस्त्री, राज्यसभा सांसद शक्तिसिंह गोहिल भी शामिल हुए.

गुजरात प्रदेश कांग्रेस समिति (जीपीसीसी) के अध्यक्ष अमित चावड़ा, गुजरात राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता परेश धनानी, सिद्धार्थ पटेल, अर्जुन मोडवाडिया, जीपीसीसी के वकिर्ंग प्रेसिडेंट हार्दिक पटेल पार्टी समेत सैकड़ों कार्यकर्ता भी अंतिम संस्कार में मौजूद थे. गुजरात के पूर्व सीएम शंकरसिंह वाघेला और राज्य विधानसभा में निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी भी नेता को विदाई देने के लिए कब्रिस्तान में थे.

संबंधित पोस्ट

નિઝરના ડાબરી આંબા ફળિયાના રહીશોએ સ્મશાને પહોંચવા ઠાઠડી સાથે નદી ઓળંગી

Vande Gujarat News

सिंघु बॉर्डर पहुंच बोले केजरीवाल, किसानों की लड़ाई अब आर-पार की हुई

Vande Gujarat News

મુખ્યમંત્રીના હસ્તે 241.34કરોડના ખર્ચની સિપુ યોજનાનું ખાતમુર્હત

Vande Gujarat News

ગુજરાતમાં રાજ્યસભાની વધુ એક બેઠક ખાલી પડી, હવે 2 બેઠકો માટે ચૂંટણી થશે

Vande Gujarat News

સાબરમતી આશ્રમ થી દાંડી યાત્રાના સાયકલ સવારો બે દિવસની યાત્રા પૂર્ણ કરી ભરૂચ ખાતે પહોચ્યા.

Vande Gujarat News

क्या है अमेरिकी संविधान का 25वां संशोधन, जिसके जरिए ट्रंप को हटाने की हो रही मांग

Vande Gujarat News