Vande Gujarat News
Breaking News
BloggerBreaking NewsDharmIndiaNational

30 नवंबर: गुरु नानक देवजी के 551 वें प्रकाश पर्व पर विशेष

प्राचीन काल से भारत की धरती ऋषि-मुनियों एवं संतों की पावन धरा रही है व संस्कृति एवं सभ्यता को आगे बढ़ाने में हमेशा संतों का मार्गदर्शन रहा है।

“आग लगी आकाश में झर-झर गिरे अंगार, संत न होते जगत में तो जल मरता संसार”।

प्राचीन काल से भारत की धरती ऋषि-मुनियों एवं संतों की पावन धरा रही है व संस्कृति एवं सभ्यता को आगे बढ़ाने में हमेशा संतों का मार्गदर्शन रहा है। गुरु नानक देव जी भारत की महानतम आध्यात्मिक विभूतियों में से एक थे।  गुरु नानक देव जी का जन्म ऐसे युग में हुआ, जब संसार में अधर्म, अत्याचार और जातिवाद चरम पर था ।   श्री गुरू नानक देव जी विश्व भर में मानवता के ऐसे प्रकाश पुंज थे, जिन्होंने मानवता को सौहार्द,  शांति, भाईचारा, सद्भावना एवं अहिंसा के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया।.

Guru Nanak Dev ji

30 नवंबर, सोमवार को भारत और पूरे विश्व में महान संत और सिख धर्म के संस्थापक श्री गुरु नानक देवजी का 551वां प्रकाश पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है। गुरुनानक देव जी सिखों के प्रथम गुरु थें। सिख धर्म की स्थापना 15वीं शताब्दी में भारत के उत्तर-पश्चिमी पंजाब प्रांत में गुरुनानक देव जी ने की थी। गुरुनानक देव जी के अनुयायी इन्हें गुरु नानक, बाबा नानक और नानकशाह नामों से संबोधित करते हैं।  अंधविश्वास और आडंबरों के कट्टर विरोधी नानक जी का जन्म 1469 में कार्तिक पूर्णिमा को  पंजाब (पाकिस्तान) क्षेत्र में रावी नदी के किनारे स्थित तलवंडी गांव में एक हिंदू परिवार में हुआ। तलवंडी को अब ननकाना साहिब के नाम से जाना जाता है। तलवंडी पाकिस्तान के लाहौर जिले से 30 मील दक्षिण-पश्चिम में स्थित है।

16 वर्ष की उम्र में गुरुनानक देव जी का विवाह गुरदासपुर जिला के लाखौकी नामक स्थान की रहने वाली सुलक्खनी से हुआ। इनके दो पुत्र श्रीचंद और लख्मी चंद थें। पुत्रों के जन्म के बाद गुरुनानक देव अपने चार साथी मरदाना, लहना, बाला और रामदास के साथ तीर्थयात्रा पर निकल पड़े। 1521 तक इन्होंने तीन यात्राचक्र पूरे किए, जिनमें भारत, अफगानिस्तान, फारस और अरब के मुख्य मुख्य स्थानों का भ्रमण किया। इन यात्राओं को पंजाबी में “उदासियाँ” कहा जाता है। गुरु नानक देव जी ने 7500 पंक्तियां की एक कविता लिखी थी, जिसे बाद में गुरु ग्रन्थ साहिब में शामिल कर लिया गया। ‘गुरु ग्रंथ साहिब’ सिख संप्रदाय का प्रमुख धर्मग्रंथ है। गुरुनानक देव जी  ने मृत्यु से पहले अपने प्रिये शिष्य भाई लहना को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया था जो बाद में गुरु अंगद देव के नाम से जाने गए।

Guru Nanak Dev ji

गुरु नानक देव जी ने सदा ही पूरी मानवता के कल्याण के लिए सोचा और समाज को हमेशा सत्य, कर्म, सेवा, करुणा और सौहार्द का मार्ग दिखाया। उनके अनुयायियों में हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही थे; तभी तो उनके बारे में एक लोकोक्ति अत्यंत लोकप्रिय रही

गुरु नानक एक शाह फ़क़ीर,
हिन्दू का गुरु, मुस्लिम का पीर।

गुरु नानक देव जी सदियों पहले जिस लंगर परंपरा की शुरुआत की थी वह परंपरा आज भी कायम है।  दरअसल  बचपन में गुरु नानक देव के पिता मेहता कालू ने एक दिन घर में सौदा (राशन) लाने के लिए नानक को पैसे दिए थे। नानक घर से निकले तो रास्ते में कुछ भूखे साधु-संत दिखाई दिए। नानक ने उसी पैसों से सभी भूखों को भोजन करवा दिया और खाली हाथ घर लौट आए। पिता द्वारा राशन लाने के लिए दिए गए पैसों से नानक देव ने संतों को भोजन कराया था, उसी की याद में आजकल गुरुद्वारों में लंगर होता है।  आज भी प्रतिदिन गुरुद्वारा में अरदास (प्रार्थना) के अंत में कहा जाता है- ‘नानक नाम चढ़दी कला तेरे भाणे सरबत दा भला’।

Guru Nanak Dev ji

गुरु नानक देव जी ने अपना पूरा जीवन समाज को सदमार्ग दिखाने के लिए समर्पित किया था। संत कबीर ने अपने दोहों में कहा है कि ‘बिरछा कबहुं न फल भखै, नदी न अंचवै नीर। परमारथ के कारने, साधू धरा शरीर’। अर्थात वृक्ष अपने फल को स्वयं नहीं खाते, नदी अपना जल कभी नहीं पीती। ये सदैव दूसरों की सेवा करके प्रसन्न रहते हैं उसी प्रकार संतों का जीवन परमार्थ के लिए होता है अर्थात् दूसरों का कल्याण करने के लिए शरीर धारण किया है।

गुरुनानक देव जी ने करतारपुर नामक एक नगर बसाया, जो अब पाकिस्तान के पंजाब प्रांत स्थित नारोवाल जिले में है। भारत-पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय सीमा से करतारपुर 3.80 किलोमीटर दूर है। गुरुनानक ने अपनी जिंदगी के आखिरी 17 साल 5 महीने 9 दिन यहीं करतारपुर में गुजारे थे और 22 सितंबर 1539 को अपनी जिंदगी की आखिरी सांस ली थी। सिख समुदाय के लिए करतारपुर साहिब एक पवित्र तीर्थ स्थल है।

नेपाल ने भी गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में सितंबर माह में सौ रुपये, एक हजार और ढाई हजार रुपये के तीन स्मारक सिक्कों का सेट जारी किया था । पाकिस्तान सरकार ने भी श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर 50 रुपये का एक सिक्का जारी किया था । कोलकाता टकसाल ने भी गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर  550 रुपये का स्मारक सिक्का जारी किया था।

Guru Nanak Dev ji

गुरु नानक देव जी की शिक्षाएं हमें सत्य एवं सामाजिक सद्भावना के मार्ग पर चलने का ज्ञान देती है, इसलिए हमें अपने जीवन में गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं को आत्मसात करना चाहिए। गुरु नानक देव जी ने जो शिक्षा एवं संदेश समाज को दिया, वह आज भी मनुष्य का मार्गदर्शक बनी हैं। समूची मानवता के लिए श्री गुरू नानक देव की शिक्षाएं बहुमूल्य मार्ग दर्शन है, जिन्हें अपनाकर मनुष्य अपने जीवन को सफल बना सकते है।   हमें गुरु नानक देव जी के बताए हुए मार्ग पर चलना चाहिए। जब तक हम उनकी दी गई शिक्षाओं को नहीं अपनाते तब तक हमारा जीवन अधूरा है।  मेरा (युद्धवीर सिंह लांबा, धारौली, झज्जर ) मानना है कि गुरु नानक जी की शिक्षाओं को आत्मसात कर मनुष्य को न केवल अपने जीवन को सफल बनाना चाहिए बल्कि अपनी भावी पीढ़ियों को भी प्रेरणा देते हुए संस्कारवान बनाना चाहिए।

नानक नाम जहाज है, चढ़े सो उतरे पार,
जो श्रद्धा कर सेव दे, गुरु पार उतारणहार ।

संबंधित पोस्ट

અંકલેશ્વર GIDCમાં GSTના દરોડા: 10 કન્ટેઈનર ચકાસ્યા

Vande Gujarat News

દ્વારકાના શિવરાજપુર દરિયા કિનારાને બ્લુ બીચની માન્યતા મળતા આજે પ્રથમ વખત બ્લુ ફ્લેગ લહેરાવામાં આવ્યો

Vande Gujarat News

હાર્દિક પંડ્યા વન-ડેમાંથી લઈ શકે છે સંન્યાસ… પૂર્વ કોચના નિવેદનથી સ્પોર્ટ્સ જગતમાં ખળભળાટ

Vande Gujarat News

સરદાર સરોવર ડેમની જળ સપાટી 126 મીટરે પહોંચી

Vande Gujarat News

જંબુસર શહેરમાં ટ્રાફિક બ્રિગેડ માં ફરજ બજાવતા વિજયસિંહ જીતસિંહ ચૌહાણ દ્વારા એચ એસ શાહ હાઇસ્કુલ માં ટ્રાફિક જાગૃતી માટે પેમ્ફલેટ વિતરણ

Vande Gujarat News

મુખ્યમંત્રીના હસ્તે 241.34કરોડના ખર્ચની સિપુ યોજનાનું ખાતમુર્હત

Vande Gujarat News