Vande Gujarat News
Breaking News
Accident Breaking News Crime India National Pollution World News

भोपाल गैस कांडः 36 साल पहले की वो भयावह रात, जिसने लील ली हजारों जिंदगी

भोपाल के आरिफ नगर स्थित अमेरिकी कंपनी यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री में मौजूद तमाम गैस के टैंकों में से एक टैंक नंबर 610 से ऐसी खतरनाक गैस का रिसाव हुआ जिसकी वजह से हजारों लोगों की जान चली गई. यही नहीं इस खतरनाक गैस का असर अगले कई सालों तक रहा.

bhopal

आज से 36 साल पहले मध्य प्रदेश के भोपाल में एक ऐसी मनहूस रात आई जिसने एक झटके में हजारों लोगों की जिंदगी लील ली. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल इस भयावह रात की गवाह बनी. 1984 में 2 और 3 दिसंबर की दरमियानी रात जहरीली गैस के रिसाव ने सो रहे हजारों लोगों की जान ले ली.

36 साल पहले भोपाल के काजी कैम्प और जेपी नगर (अब आरिफ नगर) और उसके आसपास के इलाके के लोग रात का भोजन करके सो रहे थे लेकिन आधी रात के वक्त आरिफ नगर स्थित अमेरिकी कंपनी यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री में मौजूद तमाम गैस के टैंकों में से एक टैंक नंबर 610 से ऐसी खतरनाक गैस का रिसाव हुआ जिसकी वजह से हजारों लोगों की जान चली गई. यही नहीं इस खतरनाक गैस का असर अगले कई सालों तक रहा और हादसे के बाद भी यहां के लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

40 टन गैस का रिसाव

बताया जाता है कि यूनियन कार्बाइड की फैक्ट्री से करीब 40 टन गैस का रिसाव हुआ था. रिसाव की वजह यह थी कि टैंक नंबर 610 में जहरीली मिथाइल आइसो साइनेट गैस (मिक) का पानी से मिल जाना. इस वजह से हुई रासायनिक प्रक्रिया की वजह से टैंक में दबाव पैदा हो गया जिससे टैंक खुल गया और उससे निकली गैस ने कुछ ही देर में हजारों लोगों की जान ले ली.

गैस का रिसाव रात 10 बजे के आसपास हुआ और 11 बजे के बाद इसका असर दिखने लगा और कुछ ही देर में आसपास के क्षेत्रों में फैल गया. बड़ी संख्या में कुछ ही देर में लोग मारे गए.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक यूनियन कार्बाइड संयंत्र से रिसी जहरीली गैस ‘मिथाइल आइसो साइनेट (मिक)’ गैस की चपेट में आकर मरने वालों की आधिकारिक संख्या 4 हजार से कम है, लेकिन दावा किया जाता है कि इस हादसे में 16 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी.

मध्य प्रदेश सरकार के आंकड़ों के अनुसार इस गैस त्रासदी से कुल 5,74,376 लोग प्रभावित हुए थे तो वहीं, 3,787 लोगों की मौत हुई थी. हालांकि शुरुआत में गैस रिसाव की वजह से मरने वालों की संख्या 2,259 बताई गई थी जिसे बाद में अपडेट किया गया.

2006 में सरकार द्वारा दाखिल एक शपथ पत्र में यह माना गया कि गैस रिसाव से करीब 558,125 सीधे तौर पर प्रभावित हुए और आंशिक तौर पर प्रभावित होने की संख्या लगभग 38,478 थी. 3,900 लोग तो बुरी तरह प्रभावित हुए और अपंगता के शिकार हो गए.

यूनियन कार्बाइड कॉरपोरेशन (यूसीसी) ने 2-3 दिसंबर, 1984 की रात को यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री से जहरीली गैस के रिसाव के बाद 470 मिलियन अमेरिकी डालर (सेटेलमेंट के समय 715 करोड़ रुपये) का मुआवजा दिया, जिसमें 3,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई और 1.02 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए.

ज्यादा मुआवजे की मांग
हालांकि भोपाल गैस कांड के पीड़ित लोग ज्यादा मुआवजे की मांग कर रहे हैं. दिसंबर 2010 में केंद्र सरकार ने सुधार याचिका लगाकर अतिरिक्त मुआवजा 7,844 करोड़ रुपये की मांग की थी. मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है.

7 जून 2010 को, भोपाल की एक अदालत ने यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड (यूसीआईएल) के सात अधिकारियों को हादसे के सिलसिले में दो साल की सजा सुनाई थी, हादसे के वक्त UCC के अध्यक्ष वॉरेन एंडरसन मामले में मुख्य आरोपी थे, लेकिन मुकदमे के लिए पेश नहीं हुए.

1 फरवरी 1992 को भोपाल CJM कोर्ट ने उन्हें फरार घोषित कर दिया था. भोपाल की अदालत ने एंडरसन के खिलाफ 1992 और 2009 में दो बार गैर-जमानती वारंट जारी किया था. सितंबर, 2014 में एंडरसन का निधन हो गया.

आज भी दिखता है असर
दुनिया के भयानक औद्योगिक त्रासदियों में से एक भोपाल गैस त्रासदी का असर आज भी दिखता है. इस क्षेत्र में आज भी बड़ी संख्या में लोग किसी न किसी दिक्कत का सामना करते हैं. इन क्षेत्रों में रहने वालों ज्यादातर लोगों को सांस से जुड़ी दिक्कतें होती हैं. बच्चे विकलांगता का शिकार होते हैं.

गुजरते वक्त के साथ-साथ गैस त्रासदी के पीड़ितों का दर्द कम होने की बजाए बढ़ता ही गया. इन करीब साढ़े तीन दशकों में राज्य और केंद्र में सरकारें बदलती रहीं, लेकिन पीड़ितों की किस्मत नहीं बदली. मदद के लिए बड़ी संख्या में लोग भटकते रहे लेकिन कई तो आस लगाए ही इस दुनिया से चले भी गए.

अब कोरोना के शिकार 

मध्य प्रदेश सरकार ने बुधवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी की वजह से भोपाल गैस त्रासदी से बचे 102 लोगों की मौत हो गई है जबकि कुछ गैर-सरकारी संगठनों (NGOs) ने दावा किया कि भोपाल त्रासदी में बचे 254 लोगों ने अब तक महामारी की वजह से जान गंवाई है.

देश और दुनिया के इतिहास में तीन दिसंबर की घटनाएं..

1790 : लार्ड कार्नवालिस ने मुर्शीदाबाद के नवाब से फौजदारी न्याय प्रशासन का अधिकार छीना था। जिसके बाद सदर निजामत कोर्ट कलकत्ता (अब कोलकाता) ले गए।

1829 : तीन दिसंबर को ही वायसराय लॉर्ड विलियम बेंटिक ने भारत में सती प्रथा पर रोक लगाई थी।

1882 : नन्दलाल बोस जन्म हुआ। यह आधुनिक भारतीय चित्रकला के प्रणेताओं में से एक थे।

1884 : भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद का जन्म हुआ था।

1889 : भारत माता के सपूत खुदीराम बोस ने देश की आजादी में अपने प्राणों की आहूति दी थी। 3 दिसंबर 1889 में इनका जन्म हुआ था।

1920 : तुर्की और आर्मेनिया शांति समझौते पर सहमत हुए थे।

1937 : भारतीय भाषाविद् बिनोद बिहारी वर्मा का जन्म हुआ था।

1959 : साइप्रस में इमरजेंसी खत्म की गई थी।

1971 : इस दिन भारत-पाकिस्तान में जंग छिड़ा और राष्ट्रपति ने देश में इमरजेंसी का ऐलान किया था। इस युद्ध से बांग्लादेश के उदय हुआ।

1979 : हॉकी के जादूगर ध्यानचंद का निधन हुआ।

1979 : ईरान ने इस्लामी संविधान को अपनाया।

1982 : भारतीय महिला क्रिकेटर मिताली राज का जन्म हुआ।

1984 : मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में यूनियन कार्बाइड के कीटनाशक संयंत्र से जहरीली गैस के रिसाव हो गया था। जिस कारण हजारों लोगों की मौत और उससे कई गुना ज्यादा लोग बीमार हुए थे। इसे दुनिया की सबसे भीषण औद्योगिक त्रासदी में गिना जाता है।

2011: बॉलीवुड अभिनेता देव आनंद का निधन हुआ था।

संबंधित पोस्ट

થર્ટી ફર્સ્ટને લઈને જાહેરનામુ:રાત્રે શહેરની હોટેલ, ક્લબ કે ફાર્મ હાઉસમાં પાર્ટી કરવા પર પ્રતિબંધ, રેસ્ટોરાં પણ રાત્રે 9 વાગ્યે બંધ

Vande Gujarat News

ખેડૂત ઉત્પાદક સંઘો બન્યા બાદ ગુજરાતના ખેડૂતોને મળશે 3 મોટા લાભ, જાણો સાબરકાંઠામાં PM મોદીએ શું કહ્યું

Vande Gujarat News

સરપંચના પુત્રે કહ્યું જો ભ્રષ્ટાચાર સાબિત થાય તો ટૂંડજના સરપંચ રાજીનામુ આપશે, ગ્રામજનો ના આક્ષેપના પગલે આપ્યું નિવેદન

Vande Gujarat News

नई शुरुआत : भारत-बांग्लादेश के बीच 55 साल से बंद रेल लिंक शुरू; मोदी बोले- ‘पड़ोसी पहले’ पॉलिसी में बांग्लादेश अहम

Vande Gujarat News

અંકલેશ્વર સરદાર પટેલ હોસ્પિટલ ખાતે સ્વર્ગીય અહેમદ પટેલની યાદમાં ફ્રી મેડિકલ અને સર્જીકલ કેમ્પનું આયોજન…

Vande Gujarat News

વૈજ્ઞાનિકોએ ખેડૂતો સાથે ગોષ્ઠી કરી ઓર્ગેનિક ખાતરના વિવિધ ફાયદાઓની માહિતી મેળવી

Vande Gujarat News