Vande Gujarat News
Breaking News
Agriculture Breaking News Farmer Govt India National Protest

सिंघु बॉर्डर की रेड लाइट पर धरने पर बैठे किसानों के खिलाफ FIR, महामारी एक्ट के तहत केस दर्ज

किसानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना करने और महामारी एक्ट और अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. किसान 29 नवंबर को लामपुर बॉर्डर से जबरन दिल्ली की सीमा में घुस आए थे और सिंघु बॉर्डर की रेड लाइट पर बैठ गए थे.

कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघु बॉर्डर की रेड लाइट पर धरने पर बैठे किसानों के खिलाफ पुलिस ने FIR दर्ज की है. किसानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना करने और महामारी एक्ट और अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. किसान 29 नवंबर को लामपुर बॉर्डर से जबरन दिल्ली की सीमा में घुस आए थे और सिंघु बॉर्डर की रेड लाइट पर बैठ गए थे. वे रोड को ब्लॉक करके बैठे हैं. किसानों के खिलाफ एफआईआर 7 दिसंबर को अलीपुर थाने में दर्ज की गई.

बता दें कि केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन 15 दिनों से जारी है. किसानों की मांग है कि सरकार कृषि कानूनों को वापस ले. वहीं, सरकार संशोधन के लिए तैयार है. सरकार का साफ कहना है कि वो तीनों कानूनों को वापस नहीं लेगी. दोनों पक्ष अपने-अपने रुख पर अड़े हैं, जिसके कारण टकराव बढ़ता जा रहा है. सरकार की ओर से किसानों को समझाने की कोशिश की जा रही है, लेकिन किसान अपनी मांगों से पीछे हटने को तैयार नहीं हैं.

किसान संगठनों ने तो यहां तक कह दिया है कि सरकार से अब कोई बातचीत नहीं होगी, क्योंकि इतने दिनों से सिर्फ चर्चा ही हो रही है. सरकार हमारी मांगों पर अब फैसला ले.

सरकार और किसानों में नहीं बन रही बात 

केंद्र सरकार की ओर से गुरुवार को भी किसानों की समझाने की कोशिश की गई. कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को समझाया कि जो कानून बने हैं वो उनके हक में हैं और अगर कोई समस्या है तो सरकार उस पर विचार के लिए तैयार है. कृषि मंत्री ने किसानों से प्रस्तावों पर फिर से विचार करने की अपील की.

कृषि मंत्री की अपील पर किसान नेताओं ने कहा कि पहले भी बहुत बार बात हो चुकी है. कानून रद्द करने से कम पर समझौते का सवाल नहीं है. किसानों की ओर से कहा गया कि सरकार बार-बार जोर देकर कहती है कि ये कानून किसानों के लिए लाभदायक हैं, लेकिन सरकार कानूनों के विरोध के सवालों पर उत्तर देने से साफ बच रही है.

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम कृषि कानून रद्द कराना चाहते हैं. जब तक तीनों कानून रद्द नहीं होता, हमारा आंदोलन खत्म नहीं होगा. हमने सरकार से एमएसपी पर कानून बनाने को कहा था, सरकार ने वो नहीं किया. अब कोई बातचीत नहीं होगी. पहले बहुत चर्चा हो चुकी है.

संबंधित पोस्ट

Lohri 2021: कब मनाया जाएगा लोहड़ी का त्योहार? जानें इस दिन क्यों सुनी जाती है दुल्ला भट्टी की कहानी

Vande Gujarat News

क्या होगी कोविशील्ड की कीमत, क्या टीका लगने के बाद नहीं होगा कोरोना? जानें- क्या कहते हैं अदार पूनावाला

Vande Gujarat News

હું કિસાન પરિવારમાંથી આવુ છું… કૃષિ મંત્રી તોમરે દેશના કિસાનોને લખ્યો 8 પેજનો પત્ર

Vande Gujarat News

વડોદરાથી સુરત જતી ટ્રકના ચાલકે સ્ટીયરિંગનો કાબૂ ગુમાવતા ટ્રક અંકલેશ્વર પાસેના બ્રિજ પર હવામાં લટકી

Vande Gujarat News

चीन ने अपने पायलटों और क्रू मेंबर्स को डायपर पहनने के लिए क्यों कहा?

Vande Gujarat News

કૈલાશ માનસરોવર રોડ માટે કેન્દ્ર મંજૂર કરશે 650 કરોડ રૂપિયા, ઉત્તરાખંડથી મુસાફરી કરવાનું સપનું ટૂંક સમયમાં પૂરું થશે

Vande Gujarat News